सोमवार, 22 मार्च 2010

भूल गये 'औकात' वर्करों को लतियाये

सत्ता की सस्ती सनक सिर पर हुई सवार
पद-मद-में मदहोश हो मटक रहे सत्तार
मटक रहे सत्तार, 'लाल बत्ती' जब पाये
भूल गये 'औकात' वर्करों को लतियाये
दिव्यदृष्टि मंत्री पद लाया अभिनव मस्ती
सिर पर हुई सवार सनक सत्ता की सस्ती।

1 टिप्पणी:

RAJNISH PARIHAR ने कहा…

चमड़ी वाले नेताओं की ये तो पहली विशेषता होती है..वर्करों को कौन पूछता है?

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव