शनिवार, 13 मार्च 2010

मगर 'फायदेमंद' अब लगते नहीं कलाम

बना मिसाइल जगत में खूब कमाया नाम
मगर 'फायदेमंद' अब लगते नहीं कलाम
लगते नहीं कलाम, करें जो 'सैर-सपाटा'
'राजकोष' नित लुटे बढ़ रहा उससे घाटा
दिव्यदृष्टि इसलिए भ्रमण अब छोड़ हवाई
घर में ही लेक्चर दें जम कर अब्दुल भाई

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव