मंगलवार, 22 जुलाई 2008

होंगे जिसके यार नाखुदा बागी-दागी

दागी-बागी नाखुदा होंगे जिसके यार
नैया उसकी बाखुदा लग जाएगी पार
लग जाएगी पार, चलाएं गुरुवर चप्पू
हो जाएं संतुष्ट 'कोयला' पाकर पप्पू
दिव्यदृष्टि दक्षिणा वही देगा अनुरागी
होंगे जिसके यार नाखुदा बागी-दागी

1 टिप्पणी:

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सही!!

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव