गुरुवार, 17 जुलाई 2008

भारत में भगवान बना पद, पावर पैसा

राजनीति से उड़ गए सदाचार के हंस

किंतु प्रतिष्ठित हो रहे कदाचार के कंस

कदाचार के कंस करें शुचिता का दोहन

दिख रहे लाचार मगर फिर भी मनमोहन

दिव्यदृष्टि मत सोच ज़माना आया कैसा

भारत में भगवान बना पद , पावर पैसा।

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव