सोमवार, 28 जुलाई 2008

इंसां की खातिर बने दुनिया के सब धर्म

इंसां की खातिर बने दुनिया के सब धर्म
मेल-मुहब्बत-प्यार ही मानवता का मर्म
मानवता का मर्म, शर्म आंखों में रखिए
निर्दोषों का खून नहीं बेमतलब चखिए
दिव्यदृष्टि यह बात जिहादी समझें शातिर
दुनिया के सब धर्म बने इंसां की खातिर
पढ़ना-लिखना छोड़ जो थाम रहे बंदूक
वही तालिबे इल्म सब करते भारी चूक
करते भारी चूक, इल्म से रहते गाफिल
इसीलिए गुमराही में बन जाते कातिल
दिव्यदृष्टि वे फौरन छोड़ें खून बहाना
पड़े जिंदगी भर वरना उनको पछताना

4 टिप्‍पणियां:

vipinkizindagi ने कहा…

achchi rachna hai

Advocate Rashmi saurana ने कहा…

bhut sahi baat kahi hai aapne apni rachana me. bhut badhiya. likhte rhe.
aap apna word verification hata le taki humko tipani dene me aasani ho.

राज भाटिय़ा ने कहा…

इंसां की खातिर बने दुनिया के सब धर्म ,इस लिये की इंसा इंसा बन कर रहे , लेकिन हो इस से उलटा रहा हे, धर्म के कारण इंसा हेवान वनता जा रहा हे.
धन्यवाद एक सुन्दर कविता के लिये

महेंद्र मिश्रा ने कहा…

एक सुन्दर कविता के लिये धन्यवाद.

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव