मंगलवार, 29 जुलाई 2008

सुषमाजी जाकर वहीं जमा रही हैं धाक

बम विस्फोटों से हुए मोदी जहां अवाक
सुषमाजी जाकर वहीं जमा रही हैं धाक
जमा रही हैं धाक, बेतुकी भाषा बोलें
अतिवादी घटनाओं को रिश्वत से तोलें
दिव्यदृष्टि नाहक पीटे तू अपना माथा
चले भाजपा में ऐसी बचकानी गाथा

1 टिप्पणी:

नीरज गोस्वामी ने कहा…

चले भाजपा में ऐसी बचकानी गाथा
सत्य वचन....
नीरज

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव