गुरुवार, 27 मई 2010

कालकोठरी में ताई अब मुझे न रहना

शीला मेरी मौत से करिये नहीं मजाक
पड़ा-पड़ा मैं जेल में होता रोज हलाक
होता रोज हलाक कष्ट पड़ता है सहना
कालकोठरी में ताई अब मुझे न रहना
दिव्यदृष्टि है नागवार यह शासन ढीला
करिये नहीं मजाक मौत से मेरी शीला

2 टिप्‍पणियां:

Manoj ने कहा…

nice poem

माधव ने कहा…

it will not make any difference,sir. they will keep playing with the feelings of nation

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव