मंगलवार, 3 जून 2008

लालूजी अब नेट पर बनवाएंगे ब्लॉग

लालूजी अब ' नेट ' पर बनवाएंगे ब्लॉग
सुनें यात्री रेल के सुखद सियासी राग
सुखद सियासी राग साग राबड़ी बनाएं
कर उसको उदरस्थ मुसाफिर चैता गाएं
दिव्यदृष्टि जो भी लाइन से जरा हिलेगा
नहीं उसी की खैर दंड तत्काल मिलेगा

2 टिप्‍पणियां:

Dr.G.D.Pradeep ने कहा…

bahut badhiya!!!!:)

बाल किशन ने कहा…

वाह वाह.
बहुत अच्छे.
अब क्या ब्लॉग मे भी रिजर्वेशन होगा?

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव