गुरुवार, 19 जून 2008

रुक पाए डडवाल भला क्या चोरी डाका

थामी दिल्ली पुलिस की जबसे आप कमान
तब से लेकर आज तक रोज बढ़ रही शान
रोज बढ़ रही शान जान लोगों की जाए
मगर बहादुर पुलिस नहीं कुछ भी कर पाए
दिव्यदृष्टि फहरे रिश्वत की कीर्ति पताका
रुक पाए डडवाल भला क्या चोरी डाका

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव