गुरुवार, 2 अक्तूबर 2008

यही सोचकर मिट्टी ढोएं राहुल गांधी

एक तरफ बहुमंजिला बिल्डिंग आलीशान
वहीं, दूसरी ओर हैं टूटे हुए मकान
टूटे हुए मकान गरीबी जिनसे झांके
गुरबत का दुख-दर्द कदाचित कोई आंके
दिव्यदृष्टि इक रोज़ प्रगति की आए आंधी
यही सोचकर मिट्टी ढोएं राहुल गांधी

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव