बुधवार, 6 जनवरी 2010

अपमानित कर रहे रोज 'गुर्गे' घरवाले

दुबई जाकर अमर ने भेज दिया संदेश
खतरे में जीवन पड़ा यह उनको अंदेश
यह उनको अंदेश लगाते ठोकर ग्वाले
अपमानित कर रहे रोज 'गुर्गे' घरवाले
दिव्यदृष्टि ना मानें उन्हें मुलायम चाकर
भेज दिया संदेश अमर ने दुबई जाकर

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव