सोमवार, 18 जनवरी 2010

'देह-दान' की डाले बसु अद्भुत परिपाटी

आजीवन करते रहे नित जनहित के काम
इसीलिए दुनिया उन्हें करती लाल सलाम
करती लाल सलाम ज्योति से जीवन रूठा
मगर मृत्यु पश्चात कर गये 'कृत्य' अनूठा
दिव्यदृष्टि अति दवित धन्य भारत की माटी
'देह-दान' की डाले बसु अद्भुत परिपाटी

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव