सोमवार, 18 जनवरी 2010

नेताजी सबका नखरा क्यों रोज उठाएं

पंचर करके साइकल अमर हुए नाराज
लगे मुलायम सिंह उन्हें कहने मेलेबाज
कहने मेलेबाज, लोग नित आएं-जाएं
नेताजी सबका नखरा क्यों रोज उठाएं
दिव्यदृष्टि 'हमदर्द' बने राहों के कंकर
अमर हुए नाराज साइकल करके पंचर

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव