सोमवार, 12 मई 2008

झूमे केकेआर बंधा लक्खन का बस्ता

किस्मत पर ढक्कन लगा हुई करारी हार
दादा ने दम साधकर खूब लगाई मार
खूब लगाई मार चार्जर भूले रस्ता
झूमे केकेआर बंधा लक्खन का बस्ता
किसको दिल का दाग दिखाएं जाकर दक्कन
हुई करारी हार लगा किस्मत का ढक्कन

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव