गुरुवार, 29 मई 2008

आरक्षण के नाम पर करना चक्का जाम

आरक्षण के नाम पर करना चक्का जाम
ध्यानाकर्षण का नहीं कतई अच्छा काम
कतई अच्छा काम, हकीकत समझें गूजर
बेमतलब मत करें किसी का जीना दूभर
दिव्यदृष्टि मुमकिन होता दर्जा जनजाती
स्वयं कुंवर जी दौड़े आते लेकर पाती

3 टिप्‍पणियां:

शोभा ने कहा…

मैं आपकी बात से पूरी तरह सहमत हूँ। इससे आम लोगों को बहुत असुविधा होती है। विरोध प्रकट करने का यह ढ़ंग एकदम गलत है।

बाल किशन ने कहा…

सच्ची बात बहुत रोचक ढंग से लिखी आपने.
बधाई

दिनेशराय द्विवेदी ने कहा…

झगड़ा ध्यानाकर्षण जैसा नहीं। इस से अधिक गंभीर है. यह रास्ता खुद राजनैतिक दलों ने बंद और रास्ता रोको कर कर सिखाया है। असली दोषी तो राजनैतिक दल और सरकारें हैं।
और ये शब्द पुष्टिकरण हटाएँ, तभी अगली मुलाकात संभव होगी।

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव