सोमवार, 19 मई 2008

जीत गए वीरू भले दिल्ली का मैदान

जीत गए वीरू भले दिल्ली का मैदान
मगर आखिरी वक्त तक थी सांसत में जान
थी सांसत में जान , चार्जर बोले हल्ला
तभी अमित ने तोड़ दिया दक्कन का गमला
' दिव्यदृष्टि ' मिश्रा ने मारी ऐसी तिकड़ी
गश खा गिल्ली गिरे टीम की हालत बिगड़ी

1 टिप्पणी:

Udan Tashtari ने कहा…

बढ़िया.

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव