शुक्रवार, 30 मई 2008

कोई मरियल शेर नहीं जाएगा ढाका

सचिन-गांगुली-द्रविड़ की छूट गई है रेल
नहीं तिकोनी में दिखे इन तीनों का खेल
इन तीनों का खेल, पड़ा दौरे पर डाका
कोई मरियल शेर नहीं जाएगा ढाका
दिव्यदृष्टि जब फौज खड़ी है हट्टी-कट्टी
बूढ़ों की क्यों करें भला फिर मरहम-पट्टी

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव