सोमवार, 14 अप्रैल 2008

भज्जी के आगे दिखे गेस्ट सभी भयभीत

सिर्फ तीन दिन में लिया टेस्ट कानपुर जीत

भज्जी के आगे दिखे गेस्ट सभी भयभीत

गेस्ट सभी भयभीत , पिट गए सारे प्यादे

दादा बने ' वजीर ' साफ कर दिए इरादे

दिव्यदृष्टि है शेष अभी भी दमखम पूरा

नहीं सेलेक्टर समझें उनको कतई घूरा

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव