शनिवार, 12 अप्रैल 2008

मेरी रग-रग में बसा है मुंबइया प्यार

मेरी रग-रग में बसा है मुम्बइया प्यार

यहीं मुझे इज्जत मिली पाया यहीं प्रचार

पाया यहीं प्रचार , यार मुझको पहचानो

कहो कुली या डॉन मगर मजबूर न जानो

दिव्यदृष्टि बिग-बी छोरा गंगा तट वाला

बाला साहब ने जिसको नाजों से पाला

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव