मंगलवार, 29 अप्रैल 2008

बड़बोलों का आजकल हाल काबिले गौर

माफीनामों का चला विश्व क्रिकेट में दौर
बड़बोलों का आजकल हाल काबिले गौर
हाल काबिले गौर, फिरें मिमियाते अख्तर
भारत में हरभजन नहीं कुछ उनसे कमतर
दिव्यदृष्टि दीखे दोनों की हालत खस्ता
लगा रहा चाबुक उनको अनुशासन दस्ता

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव