शुक्रवार, 18 अप्रैल 2008

'दादागीरी' चले याद आ जाए नानी

सारे 'नाइट राइडर्स' हो जाओ तैयार

जज्बा जोश जुनून की दीखे पैनी धार

दीखे पैनी धार, ढहे 'दीवार' पुरानी

' दादागीरी' चले याद आ जाए नानी

दिव्यदृष्टि दिखलाओ ऐसा करतब धांसू

चैलेंजर की आंखों में आ जाए आंसू

दुनिया में मशहूर हैं राहुल द्रविड़ ' द वॉल '

उनके आगे खान की नहीं चलेगी चाल

नहीं चलेगी चाल, दाल गलने में शंका

रॉयल चैलेंजर का जग में बाजे डंका

दिव्यदृष्टि जो एक बार चंदन वन आए

राह भूल ताउम्र वही चीता मिमियाए

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव