शुक्रवार, 1 अगस्त 2008

तिकड़ी फिर बेहाल, हाथ आई मायूसी

एक ओर वीरू जहां पीट रहे थे ' गॉल '
वहीं दूसरी ओर थी तिकड़ी फिर बेहाल
तिकड़ी फिर बेहाल , हाथ आई मायूसी
दर्शक हुए निराश बढ़ गई कानाफूसी
दिव्यदृष्टि लग चुका बैट पर जिनके ताला
विदा कीजिए उन्हें डाल कर सादर माला

1 टिप्पणी:

शोभा ने कहा…

बहुत सुन्दर लिखा है। बधाई।

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव