बुधवार, 13 अगस्त 2008

अमरनाथ के नाम पर मचा रहे कोहराम

वीएचपी बजरंग दल करके चक्का जाम
अमरनाथ के नाम पर मचा रहे कोहराम
मचा रहे कोहराम , सड़क पर देते धरना
रोगी बेशक मरें मगर उनको क्या करना
दिव्यदृष्टि फिसला जिनका इंटरव्यू भाई
कौन करेगा आखिर अब उनकी भरपाई
भोले बाबा मौन , पर भड़क रहे हैं भक्त
इसीलिए नित बह रहा निदोर्षों का रक्त
निदोर्षों का रक्त , सियासी हल्ला-गुल्ला
घाटी में कर रहे खूब जमकर कठमुल्ला
दिव्यदृष्टि जो जन्नत में नफरत फैलाए
उसे जहन्नुम में फौरन शासन पहुंचाए

3 टिप्‍पणियां:

सुनीता शानू ने कहा…

आपको नवभारत टाईम्स में भी पढ़ा था,अच्छा कटाक्ष करते है आप,
सादर

मिहिरभोज ने कहा…

बंधू ज्यादा दिन बाकी नहीं है यदि आतंकवादियों के सामने सरकार इसी तरह झुकती रहीं तो आप भी इसी तरह कोहराम मचाते नजर आयेंगे....आपको तो प्रणाम करना चाहिये उन देशभक्तों को जो अपनी जान की बाजी लगाकर वहां आतंकवादियों का विरोध कर रहे हैं

राजीव रंजन प्रसाद ने कहा…

गहरा कटाक्ष है..समसामयिक विषयों पर पूरी अंतरदृष्टि के साथ

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव