सोमवार, 18 अगस्त 2008

तब इस्तीफे का किया जनरल ने ऐलान

बचने का दीखा नहीं जब कोई इमकान
तब इस्तीफे का किया जनरल ने ऐलान
जनरल ने ऐलान , मुशर्रफ हुए रुआंसे
पड़े नहीं इस बार ठीक से उनके पासे
दिव्यदृष्टि कुछ काम नहीं आए दरबारी
मना रहे इसलिए जश्न जनता जरदारी

3 टिप्‍पणियां:

sandhya ने कहा…

gaur karaun vahan jashn ka mahole nahin hai, awam ki ankhon main ek sawal saph tarta sa fijh raha hai ki ab hamari hukumat ka agla kadam kya hai. kyonki musarraf ka hona na hona ab siyasi mudda bhar rah gaya hai. pakistani awam kae muddae ab alag hain.

राजीव रंजन प्रसाद ने कहा…

सामयिक विषयों पर आपकी पैनी दृष्टि वाकई काबिले तारीफ है..


***राजीव रंजन प्रसाद

Ashish Pandey ने कहा…

Very nice... congrats

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव