गुरुवार, 7 अगस्त 2008

बेहतर है खुद सदर छोड़ दें फौरन गद्दी

जरदारी की बात पर सहमत हुए नवाज
दोनों पूरा करेंगे मिलकर कॉमन काज
मिलकर कॉमन काज मुशर्रफ बाहर जाएं
इसकी खातिर संसद में अभियोग चलाएं
दिव्यदृष्टि हो उनकी खूब फजीहत भद्दी
बेहतर है खुद सदर छोड़ दें फौरन गद्दी

2 टिप्‍पणियां:

Shiv Kumar Mishra ने कहा…

आपकी कलम बहुत तीखे प्रहार करती है.
पढ़ कर अच्छा लगता है.

Udan Tashtari ने कहा…

बेहतरीन...

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव