सोमवार, 11 अगस्त 2008

अभिनव बिंद्रा तुम्हें देश दे रहा बधाई

अभिनव बिंद्रा ने किया ऐसा उत्तम कृत्य
बच्चा-बच्चा हिंद का करे झूम कर नृत्य
करे झूम कर नृत्य , न पड़ते पांव जमीं पर
भंगड़ा होता कहीं , बज रहा ढोल कहीं पर
' दिव्यदृष्टि ' जो स्वर्ण पदक दिलवाए भाई
उसकी खातिर तुम्हें देश दे रहा बधाई

2 टिप्‍पणियां:

परमजीत बाली ने कहा…

बहुत बढिया लिख रहे ' दिव्यदृष्टि 'भाई
हमारी ओर से भी, स्वीकारे आज बधाई

Udan Tashtari ने कहा…

जीत की बहुत बधाई एवं शुभकामनाऐं!

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव