गुरुवार, 7 अगस्त 2008

चमके उनके नैन, मुलायम-लालू झूमें

जैसे ही आई खबर हटा सिमी से बैन
त्यों ही मारे खुशी के चमके उनके नैन
चमके उनके नैन , मुलायम - लालू झूमें
सेकुलर वोटों की ' गड्डी ' सपने में चूमें
दिव्यदृष्टि यूपी - बिहार में पाएं सत्ता
निर्दोषों का खून बहे बेशक अलबत्ता

2 टिप्‍पणियां:

राजीव रंजन प्रसाद ने कहा…

आपकी दिव्यदृष्टि नें कडुवा सच बयान किया है। निर्पेक्षता यही है..."निर्दोषों का खून बहे बेशक अलबत्ता"


***राजीव रंजन प्रसाद

www.rajeevnhpc.blogspot.com
www.kuhukakona.blogspot.com

राज भाटिय़ा ने कहा…

एक सच जो आप ने अपनी कविता मे लिखा,देश के गद्दरो पर.धन्यवाद

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव