बुधवार, 24 सितंबर 2008

राहुल बाबा शौक से करिए आप विवाह

राहुल बाबा शौक से करिए आप विवाह
बहू मगर वह लाइए जिसकी मन में चाह
जिसकी मन में चाह, सोनियाजी को भाए
मन में प्रेम अथाह लिए वह घर में आए
दिव्यदृष्टि दिखलाए अपनापन हमजोली
पाए सबका स्नेह बोल कर हिन्दी बोली।

कोई टिप्पणी नहीं:

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव