मंगलवार, 30 सितंबर 2008

गली गली गुजरात में विफल हुए जासूस

दिल्ली में दहशत बढ़ी महाराष्ट्र मायूस
गली गली गुजरात में विफल हुए जासूस
विफल हुए जासूस ठनकता माथा ठाणे
मरघट माले गांव लगे निर्दोष ठिकाने
दिव्यदृष्टि जो उग्रवाद की लिखें कहानी
धीरज धरकर उन्हें याद करवा दें नानी

2 टिप्‍पणियां:

COMMON MAN ने कहा…

kuchh nahi hoga yahan

दिव्यदृष्टि ने कहा…

karam kiye ja phal ki ichchha mat rakh ae insaan/ye hai Gita ka gyan

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव