रविवार, 28 सितंबर 2008

मियां बुखारी लीजिए जरा अक्ल से काम

मियां बुखारी लीजिए जरा अक्ल से काम
नहीं पुलिस को कीजिए बेमतलब बदनाम
बेमतलब बदनाम , जान पर जो दल खेला
चला रहे क्यों आप बेवजह उस पर ढेला
दिव्यदृष्टि गुमराहों से मत करिए यारी
जरा अक्ल से काम लीजिए मियां बुखारी

1 टिप्पणी:

COMMON MAN ने कहा…

sir, inhe samjhane se akl nahi aayegi

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव