शनिवार, 6 सितंबर 2008

गंजे को मिल ही गया है आखिर नाखून

गंजे को मिल ही गया है आखिर नाखून
फूला-फूला फिर रहा बनकर अफलातून
बनकर अफलातून, साथ 'दादा' के बैठे
पावरफुल जो लोग कौन फिर उनसे ऐंठे
दिव्यदृष्टि जो शक्ति शेखचिल्ली ने पाई
उसकी खातिर उसे दीजिए कोटि बधाई

2 टिप्‍पणियां:

रंजन ने कहा…

समझ नहीं आया :(

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

"गंजे को मिल ही गया है आखिर नाखून"

वह भई वाह, मज़ा आ गया!

यह मैं हूं

यह मैं हूं

ब्लॉग आर्काइव